Chandrayan3 : प्रज्ञान रोवर चन्द्रमा पर पानी खोजते हुए ला पता हो गया | इसरो के वैज्ञानिकों के पास प्रज्ञान रोवर ने भेजी थी कुछ तस्वीरे |

Chandrayan3 : प्रज्ञान रोवर चन्द्रमा पर पानी खोजते हुए ला पता हो गया | इसरो के वैज्ञानिकों के पास प्रज्ञान रोवर ने भेजी थी कुछ तस्वीरे |

तो दोस्तों जैसा की आप लोगो ने इस आर्टीकल्स को पढने के लिए ही आपने इसे खोला है तो आप पूरी जानकारी लेकर ही जाईयेगा | तो दोस्तों जैसा की जानते है की चंद्रयान 3 मिशन के अनुसार चन्द्रमा के दक्षिणी पोल पर भारत ने विक्रम लैंडर को उतार कर कई देशो से आगे चला गया है तो बताया जा रहा है की वहा पे कोई भी आज तक नहीं पहुच पाया था और वो काम भारत ने कर दिखाया और कई देशो को पीछे छोड़कर एक इतिहास ही बना डाला | तो दोस्तों बताया जा रहा है की चंद्रयान 3 के लैंडर से जब प्रज्ञान रोवर बहार निकला है तब वह सूर्य के प्रकाश से ही चार्ज होकर प्रज्ञान रोवर चन्द्रमा पर चक्कर लगाएगा और वहा पर वह पता लगायेगा की पानी कहा पर है और प्रज्ञान रोवर को इसरो के वैज्ञानिकों ने उसे काफी मजबूत भी बनाया है की किसी चट्टान से भी टकराए तो वह ख़राब न होने पाए और प्रज्ञान रोवर का वजन कुल 26 किलो है और उसमे कुल 6 पहिये और उसमे काफी अच्छे प्रकार का कैमरा भी लगाया गया है और उसे इतना बेहतरीन बनाया गया है वह अपना काम खुद ही कर लेगा और वह चन्द्रमा पर क्या क्या ह्सिजे है वह उसे खुद ही पता लगाकर सैम्पल इसरो के पास भेज देगा और इसरो के वैज्ञानिकों ने बताया है की अगर हम लोग यही से अगर चन्द्रमा का फोटो विडियो लोड करे तो हमें कम से कम 10 मिनट तो लग ही जायेंगे और इस लिए ही हमने इसमी येसा कम किया है प्रज्ञान रोवर सारा डेटा पहले अपने पास कैप्चर करेगा फिर तब वह हम लोगो के पास भेजेगा |

इसरो के वैज्ञानिकों के पास प्रज्ञान रोवर ने भेजी थी कुछ तस्वीरे |

तो दोस्तों बताया जा रहा है की चन्द्रमा के दक्षिणी पोल पर अभी तक किसी का भी मिशन कामयाब नहीं हुआ था इस वजह से वहा पर हर कोई भी जाना चाहता था मगर कोईकामयाब नहीं होता था मगर इस बार भारत ने वह कर दिखाया की जो चीन , रूस ,अमेरिका नहीं कर पाया ओ आज ओ भारत करके दिखा दिया | आपको बता दे की इससे पहले भी इसरो के वैज्ञानिक दो बार फेल हो चुके थे फिर तब जाकर वह लोग तीसरी बार में कामयाब हुए है आपको बता दे की आज जो भी कुछ हो पाया है ओ आज इसरो के वैज्ञानिकों के ही चलते हो पाया है और आपको बता दे की चंद्रयान का मिशन कामयाब होते ही सारी दुनिया में डंका बज गया | बताया जा रहा है की चंद्रयान मिशन के सॉफ्ट लैंडिंग के लिए ब्रत भी रखे थे और जैसे ही चंद्रयान 3 चन्द्रमा पर सॉफ्ट लैंडिंग किया वैसे ही कितनो ने अपना ब्रत तोडा और फिर वह हिंदुस्तान का जय करा लगते हुए 23 अगस्त को खुसिया मनाने लगे और तो दोस्तों आपको बता दे की चंद्रमा के दक्षिणी पोल कर भारत ने अपना झंडा लहराकर कई देशो से आगे निकल गया और भी भारत के इसरो वैज्ञानिकों से कई देश के वैज्ञानिक हाथ मिलाने के लिए तैयार है और वह भारत के साथ मिलकर काम करना चाहते है और बताया जा रहा की विक्रम लैंडर ने चन्द्रमा पर उताकर अपना काम करना शुरू कर दिया है और बताया जा रहा है की चन्द्रमा के सतह पर विक्रम लैंडर से बाहर निकलर प्रज्ञान रोवर ने अपना काम करना शुरू कर दिया | बताया जा रहा है की वैज्ञानिकों का मानना है जहा पर चंद्रयान 3 को उतारा गया है वहा पर बर्फ की मात्रा जादे बताई जा रही है |

Leave a Comment