Adity L-1 सूर्ययान लांच होने से पहले ही उसमे कुछ खराबी हो गयी है | इसरो के वैज्ञानिकों की नजर अब सूर्य पर है |

Adity L-1 सूर्ययान लांच होने से पहले ही उसमे कुछ खराबी हो गयी है | इसरो के वैज्ञानिकों की नजर अब सूर्य पर है |

तो दोस्तों हम आपको बता दे की चंद्रयान 3 मिशन के सफल होने बाद इसरो ने अब अपनी नजर सूर्य पर टिका लिही और उनका कहेना है की हम सूर्ययान के मिशन में कामयाब होना चाहते है और आपको बता दे की इसरो का कहेना है की चन्द्रमा पर हम जैसे विजय पा लिए है वैसे सूर्य पर विजय पाना बहुत ही अपने आप में एक चैलेन्ज है और इसको पार करना है इसरो को | बताया जा रहा है की पृथ्वी से सूर्य की दुरी लगभग 15 करोड़ किलोमीटर दूर है और सूर्य की किरणों को पृथ्वी पर आने मात्र केवल 8 मिनट ही लगते है और आपको बता दे की जो सूर्ययान सूर्य पर भेजा जा रहा है उकसा नाम है आदित्य L-1  इसरो बनाने में कुल खर्ज लगे है 3 करोड़ 78 लाख रूपए लग चुके है और बताया जा रहा है की यह मिशन आदित्य L-1 पृथ्वी से 15 लाख किलोमीटर दूर रहकर सूर्य के बारे में इसरो के वैज्ञानिकों को देता रहेगा और इस सूर्ययान को जहा भेजा जा रहा है उस जगह को L-1 प्वाईन्ट कहते है और इसी जगह पे सुर्ययान्न की उतारा जायेगा और इसरो ने बताया है की हम उम्मीद करते हैं की हमारी ही जीत हो और हम चन्द्रमा की तरह हम सूर्य पर भी पहुच जाए हम लोग तो बहुत ही अच्छा होगा और सायद यह भारत के के लिए बहुत ही गर्व की बात होगी की अभी चंद्रयान 3 के सॉफ्ट लैंडिंग करने की खुशियों गूंज अभी ख़त्म नहीं हुयी और इसरो ने ले लिया एक बहुत ही बड़ा फैसला और भारत करने जा रहा सूर्ययान पर मिशन 1 अभी तक तो भारत सूर्य नहीं गया है |

इसरो के वैज्ञानिकों की नजर अब सूर्य पर है |

बताया जा रहा है की इसरो ने बताया की आदित्य L-1 की तयारी अभी जारी है और हम जल्द ही आदित्य L-1 को जल्द ही लांच करने वाले है और उन्होंने बताया की 2 सितम्बर को सूर्ययान लांच होगा और यह पृथ्वी से 15 लाख किलोमीटर दूर रहकर अपना काम करेगा और इसरो ने वैज्ञानिकों का कहेना है की यह सूर्ययान को हमने बहुत ही बज्बूत बनाया है ताकि यही सूर्य की किरणों से यह कही पिघल ना जाए और हमने इसे तैयार कर दिया है और अब बस इसे केवल लांच करने की ही देरी है और जल्द ही इसे भी लांच किया जाएगा और आपको बता दे की चंद्रयान 3 का मिशन चन्द्रमा पर केवल 14 दिनों का ही है फिर इसके बाद वहा अपर अन्दर हो जाएगा और फिर वहा अपर प्रज्ञान रोवर काम नहीं कर पायेगा और इसी लिए प्रज्ञान रोवर को हमने केवल 14 दिनों तक के लिए ही चन्द्रमा पर भेजा था और आपको बता दे की चंद्रयान 3 से विक्रम लैंडर बाहर निकलकर अपना काम करना शुरू कर दिया था चंद्रयान 3 जब चन्द्रमा पर सॉफ्ट लैंडिंग किया तब बहुत स्सरे लोगो ने अपने अपने घरो में दिए जलाये और एक त्यौहार के जैसा ही इसे मनाने लगे और और बताया जा रहा है की 23 अगस्त का दिन लोगो के लिए खुसी का दिन था और पुरे देश भर में ख़ुशी का महौल बना हुआ था और आपको बता दे की चंद्रयान 3 के लिए स्कूलों में भी बच्चे प्रार्थना कर रहे थे की चंद्रयान 3 की सॉफ्ट लैंडिंग हो जाए और चन्द्रमा पर चंद्रयान 3 सही सलामत उतर जाए और चन्द्रमा जैसे ही भारत ने विजय पाया वैसे अब भारत के वैज्ञानिकों की नजर सूर्य पर पद गयी और अब इसरो ने सूर्य पर भी जाने का सारी तयारी कर चूका है अब बस देरी है तो सूर्ययान को लांच करने की और फिर एक बार हमारा देश गिने चुने देशो में आने लगेगा और इससे हमारे देश का नाम उचा होगा और हमारा देश आगे जाएगा |

 

Leave a Comment